Tag Archives: hindi poems

मेरी पेहचान….

31 Jul
I remember this journey. I was traveling to Mumbai in a bus and as I took my seat, I saw an old woman holding a little boy in her lap and a big suitcase in the other trying to get into the bus. I went ahead to help her get her luggage and escorted her to her seat. As she sat down, settled her son and breathed a heavy sigh, she thanked me and said (in Marathi) – “I guess I can’t do anything by myself!”
I could sense a weird concoction of helplessness and hopefulness in that statement. Probably she had desired something so badly that the failure made her crestfallen. Or probably she just had a million dreams which were never fulfilled. But what inspired me the most was her enthusiasm. As this famous quote by Winston Churchill goes –
“Success is the ability to go from one failure to another with no loss of enthusiasm”
I found the lines that I had then scribbled in my notepad a few days ago and decided to complete the poem. A tribute to the failures and the successes hidden behind them!
*
ना कभी मैंने धरी इस हाथ में तलवार हैं,
ना कभी इस दिल से उमड़ी शौर्य की ललकार हैं|
भयभीत सा मेरा मुकुट, असहायता ही शान हैं,
आम से भी आम ऐसी ही मेरी पेहचान हैं|
.
ना कभी किसी जंग में, संघर्ष का हिस्सा बना,
ना कभी किसी जीत के जयघोष से सीना तना|
ना ही मेरे आंसुओं में मोतियों सी जान हैं,
आम से भी आम ऐसी ही मेरी पेहचान हैं|
.
मैंने बस जीवन में मेरे रिक्त स्थानों को भरा,
और मेरी सोच को भी बंधनों ने हैं धरा|
मेरे मन में न कोई अंगार हैं, तूफान हैं,
आम से भी आम ऐसी ही मेरी पेहचान हैं|
.
बंद मुट्ठी खोल दूं, या बादलों के पर बुनूं?
या क्षितिज की अंतहीन लालिमा को लांघ दूं?
खोल दो पिंजरा भी लेकिन, पंख में न जान हैं,
आम से भी आम ऐसी ही मेरी पेहचान हैं|
**************
P.S: I apologize to those who do no understand Hindi. I will certainly try to come up with an English translation. If anyone wants to volunteer, please feel free!

T.G.I.F – शुक्र हैं शुक्रवार हैं

13 Apr

As I woke up today I realized that today is Friday the 13th – the unluckiest day by many legends. As I was reading about the beliefs around this day and date, I came across this wonderful quote:-

“I’m a great believer in luck, and I find the harder I work, the more I have of it.”

– Thomas Jefferson

So well, lucky or unlucky, its a Friday!! And it definitely is a reason to smile and hope for a refreshing weekend.

I had written a poem like this long long back. This poem is a variant of that one. For those who cannot read Hindi, my apologies for not being able to translate it. But, the title literally translates to Thank God Its Friday 🙂

आज देखिये चरों ओर,

खुशियों की बौछार हैं|

मानो कोई त्यौहार हैं,

शोखियों में घुमार हैं|

शुक्र है शुक्रवार हैं|

*

आँखों में है चमक नयी,

और होटों पर मुस्कान हैं|

एक सुनहरे वीकेंड का,

बेसबरी से इंतज़ार हैं|

शुक्र हैं शुक्रवार हैं|

*

टिक टिक करती घडी की आज,

तेज़ बड़ी रफ़्तार हैं|

आधा महिना हुआ ख़त्म,

आज मिलने वाला पगार हैं|

शुक्र हैं शुक्रवार हैं|

*

खुशियों से हो आप घिरे,

यह ही मेरा अरमान हैं|

इस ही बात पर आपको मेरा,

प्यार भरा नमस्कार हैं|

शुक्र हैं शुक्रवार हैं|

धैर्य सो रहा है

13 Jul

Another Wednesday, another attack. While on one hand I am infuriated at the fallacies of the security agencies, I feel terrible for the deceased and those who are suffering. I am not a big proponent of Mumbai standing back on its feet and all that jazz. How many times should she stand back, fight back? How many times is her perseverance going to be put to test?

I am probably at lack of words to state the discombobulated emotion. This is probably my spontaneous outburst..

आग का बवंडर, दहशत का है मेला,

स्वप्नों की नगरी, आतंक का है खेला|

ज्योत बुझ रही है, अंधेर हो रहा है,

आंसुओं की आड में, क्यों धैर्य सो रहा है?

*

सिकुड़ती है तरंग, कायरों के गर्व से,

झुलसती है उमंग, हमलों के पर्व से|

वो अथांग सागर, असहाय हो रहा है,

आंसुओं की आड में, क्यों धैर्य सो रहा है?

*

मौन सिसकियों की राजनीत हो रही है!

वीरों की भूमि, संतप्त रो रही है!

भयहीन वीर कल का, निर्बल सा हो रहा है|

आंसुओं की आड में, क्यों धैर्य सो रहा है?

*

दाता तुझसे पुकार, कण-कण में बल दे,

अंगार दे, चैतन्य दे, निष्ठां मगर अचल दे|

वरदान देने तू क्यूँ निर्वाक हो रहा है?

आंसुओं की आड में, क्यों धैर्य सो रहा है?

*************

P.S: Apologies  to the Hindi impaired. I don’t think I can translate it well in English.

याद है…

9 Nov

It has been a really really long hiatus. I was beginning to forget that there was a time when I used to be a prolific blogger. It is this new phase of being a student again which I believe is the reason for this vacuum. I am sure you were all glad to see me shut up. But well, I can’t let you stay happy for long. 👿

The day before yesterday, I had gone to a friend’s place to work on a group assignment. Surprisingly, we were able to get through with it real quick. And when people with capability to yap endlessly are together, I don’t want to specifically mention the consequence. My friend showed me some of his photographs which had pictures of his house, his family and friends. One thing led to another, and I was driven in a fit of nostalgia. On my way back, a couple of lines popped up in my head and by the time I sat down to pen them down, I was already heading somewhere. After a day’s settling time, here I am with a silly rhyme…

Disclaimer: As you would have already guessed, its a Hindi poem and lo! I have just newly discovered a way of typing in the Devanagari script using Google IME as well. So for the Hindi impaired lot, my apologies. 😦 Also I am taking the full advantage of the server space on wordpress and putting up this picture also – clicked by yours truly on one of the recent trips to Niagara. 🙂

नन्ही सी इन आंखो में,

भोला सा सपना याद हैं.

अन्जानो की इस भीड में भी,

कोई अपना सा याद हैं.

 

 

छटते कोहरे की अंगडाई,

पूरब की किरणें बलखाई,

ओसभरे उन फुलों को,

हलके से छूना याद है,

अन्जानो की इस भीड में भी, कोई अपना सा याद हैं.

 

हजार खिलौनो की चाहत,

बचपन की हर इक शरारत,

दोपहर रसोई में छुपकर,

लड्डू चुराना याद है,

अन्जानो की इस भीड में भी, कोई अपना सा याद हैं.

 

हार न थी और जीत न थी,

हिसाबो की भी रीत न थी,

घुटनो की उन ज़ख्मों को,

माँ का सहलाना याद है,

अन्जानो की इस भीड में भी, कोई अपना सा याद हैं.

 

दुनिया के हर रंग में,

धीरे धीरे रंग रहें हैं,

अंबर की ऊँचाई में,

सपने भी अब सिमट रहें हैं,

सात सुरों के सागर में,

मासूम सी बंदिश याद हैं,

अन्जानो की इस भीड में भी, कोई अपना सा याद हैं.

 

 

%d bloggers like this: