Archive | July, 2011

धैर्य सो रहा है

13 Jul

Another Wednesday, another attack. While on one hand I am infuriated at the fallacies of the security agencies, I feel terrible for the deceased and those who are suffering. I am not a big proponent of Mumbai standing back on its feet and all that jazz. How many times should she stand back, fight back? How many times is her perseverance going to be put to test?

I am probably at lack of words to state the discombobulated emotion. This is probably my spontaneous outburst..

आग का बवंडर, दहशत का है मेला,

स्वप्नों की नगरी, आतंक का है खेला|

ज्योत बुझ रही है, अंधेर हो रहा है,

आंसुओं की आड में, क्यों धैर्य सो रहा है?

*

सिकुड़ती है तरंग, कायरों के गर्व से,

झुलसती है उमंग, हमलों के पर्व से|

वो अथांग सागर, असहाय हो रहा है,

आंसुओं की आड में, क्यों धैर्य सो रहा है?

*

मौन सिसकियों की राजनीत हो रही है!

वीरों की भूमि, संतप्त रो रही है!

भयहीन वीर कल का, निर्बल सा हो रहा है|

आंसुओं की आड में, क्यों धैर्य सो रहा है?

*

दाता तुझसे पुकार, कण-कण में बल दे,

अंगार दे, चैतन्य दे, निष्ठां मगर अचल दे|

वरदान देने तू क्यूँ निर्वाक हो रहा है?

आंसुओं की आड में, क्यों धैर्य सो रहा है?

*************

P.S: Apologies  to the Hindi impaired. I don’t think I can translate it well in English.

Advertisements
%d bloggers like this: